मुझ से पहली सी मोहब्बत Mujhse Pehli Si Mohabbat Lyrics - Faiz Ahmed Faiz

Mujhse Pehli Si Mohabbat Lyrics

Mujhse Pehli Si Mohabbat Lyrics in Hindi:- Presenting the Lyrics of  Mujhse Pehli Si Mohabbat Song by Noorjehan. The Lyrics of this song written by Faiz Ahmed Faiz.

Audio Credits:
Song:  Mujhse Pehli Si Mohabbat Lyrics
Album/Movie: Qaidi
Music Director: Rashid Attre
Lyricist: Faiz Ahmed Faiz
Singer: Noorjehan

Mujhse Pehli Si Mohabbat Lyrics in Hindi

मुझ से पहली सी मोहब्बत, मेरे महबूब, न माँग - ४
मैंने समझा था के तू है तो दरख़्शां है हयात
तेरा ग़म है तो ग़म-ए-दहर का झगड़ा क्या है
तेरी सूरत से है आलम में बहारों को सबात
तेरी आँखों के सिवा दुनिया में रखा क्या है
तेरी आँखों के सिवा दुनिया में रखा क्या है
तू जो मिल जाए तो तक़दीर निगों हो जाए
यूँ न था, मैंने फ़क़त चाहा था यूँ हो जाए

मुझ से पहली सी मोहब्बत, मेरे महबूब, न माँग

अनगिनत सदियों के तारीक बहिमाना तलिस्म
रेश-ओ-अठलस-ओ-कमख़ाब-ओ-बाज़ार में जिस्म
ख़ाक में लितड़े हुए ख़ून में नहलाए हुए


लौट जाती है इधर को भी नज़र क्या कीजे
अब भी दिलकश है तेरा हुस्न, मग़र क्या कीजे
अब भी दिलकश है तेरा हुस्न, मग़र क्या कीजे
और भी दुख हैं ज़माने में मोहब्बत के सिवा
राहतें और भी हैं वस्ल की राहत के सिवा

मुझ से पहली सी मोहब्बत, मेरे महबूब, न माँग

Mujhse Pehli Si Mohabbat Lyrics in English

mujh se pahalii sii mohabbat, mere mahabuub, na maa.Ng - 4
mai.nne samajhaa thaa ke tuu hai to daraKshaa.n hai hayaat
teraa Gam hai to Gam-e-dahar kaa jhaga.Daa kyaa hai
terii suurat se hai aalam me.n bahaaro.n ko sabaat
terii aa.Nkho.n ke sivaa duniyaa me.n rakhaa kyaa hai
terii aa.Nkho.n ke sivaa duniyaa me.n rakhaa kyaa hai
tuu jo mil jaae to taqadiir nigo.n ho jaae
yuu.N na thaa, mai.nne faqat chaahaa thaa yuu.N ho jaae


mujh se pahalii sii mohabbat, mere mahabuub, na maa.Ng

anaginat sadiyo.n ke taariik bahimaanaa talism
resh-o-aThalas-o-kamaKaab-o-baazaar me.n jism
Kaak me.n lita.De hue Kuun me.n nahalaae hue


lauT jaatii hai idhar ko bhii nazar kyaa kiije
ab bhii dilakash hai teraa husn, maGar kyaa kiije
ab bhii dilakash hai teraa husn, maGar kyaa kiije
aur bhii dukh hai.n zamaane me.n mohabbat ke sivaa
raahate.n aur bhii hai.n vasl kii raahat ke sivaa

mujh se pahalii sii mohabbat, mere mahabuub, na maa.Ng


Post a Comment

0 Comments